Facebook And Whatsapp Unique New Hindi Status 2021

0
132

Facebook And Whatsapp Hindi Status 2021

Welcome to Status world. We are here to provide you the best quality and unique Fb Status in Hindi. Here you can get variety of status like emotional status, love status, attitude status and much more. If you are looking for quality status such as birthday status, Valentine week status or any kind of status then you are landed on the right place.

Hindi Attitude and Love Status for Facebook and Whatsapp,Hindi Love Status for FB and Whatsapp,Attitude Hindi Status for Facebook and Whatsapp,Latest Whatsapp 2021 Status in Hindi

Read Best fb status, Facebook status, Attitude Facebook status 2021 Hindi, Latest Facebook Status, Attitude Status 2021 Hindi 2021, New fb status for Facebook Attitude status 2021, Two Line fb status, Facebook Status Hindi,Shayari in Hindi,Fb Status in Hindi,Emotional Fb Status,Interesting Facebook Status,Awesome Status for Facebook in Hindi

मैंने जान बचा के रखी है एक जान के लिए इतना इश्क़ कैसे हो गया एक अनजान के लिए।

तेरे रुखसार पर ढले है मेरे शाम के किस्से ख़ामोशी से मांगी हुई मोह्बत की दुआ हो तुम।

मेरी महफ़िल में अभी नज़्म की इरशाद बाकी है कोई थोड़ा ही भीगा है अभी तो पूरी बरसात बाकी है।

तेरे नाम के धागे भी खोल दिए हमने बंधनो में इश्क़ हमे अच्छा नहीं लगता।

कोई खास एहसास ही छू पाता है रूह को यूँ तो मोह्हबत मे दावे हज़ारो करते है।

तन्हाई के लम्हे अब तेरी यादों का पता पूछते है तुझे भूलने की बात करू तो ये तेरी खता पूछते है।

आ रहे हो कब मुलाकात के लिए बादल भी रुके है बरसात के लिए।

कैसा एहसास है तेरा तूने छुआ भी नहीं और महसूस मेरी रूह तक को हुआ है।

सोचा था बचा के रखेंगे खुद को इश्क़ से एक तुम क्या आये पागल कर गए इस दिल को।

अजीब सी पहेली है इन हाथ की लकीरों में सफ़र लिखा है मगर रास्ता नहीं लिखा।

नहीं बदल सकते हम खुद को औरो के हिसाब से एक लिबास हमे भी दिया है खुदा ने अपने हिसाब से।

लफ्जो के भी जायके होते है परोसने से पहले चख भी लिया करो।

कहाँ पर बोलना है और कहाँ पर बोल जाते है जहाँ खामोश रहना है वहाँ मुंह खोल जाते है।

मोहब्बत यूँ ही किसी से हुआ नहीं करती
वजूद भुलाना पड़ता है किसी को चाहने के लिए।

एक मैं हूँ, खुद को नहीं समझ पाया आज तक और एक दुनिया है न जाने क्या क्या समझ गयी।

कितनी अजीब है मेरे अंदर की तन्हाई भी हज़ारो अपने है मगर याद सिर्फ तुम ही आते हो।

सख्त हाथो से भी छूट जाती है कभी कभी उँगलियाँ रिश्ते जोर से नहीं तमीज से थामे जाते है।

हवा में कुछ नमी सी है आज सुना है कल खवावो की बस्ती में आग लगी थी।

मंजिल मेरे कदमों से अभी दूर बहुत है मगर तसल्ली यह है की कदम मेरे साथ है।

लफ्जों में ही पेश कीजियेगा अपनेपन की दावेदारियाँ ये शहर ऐ नुमाइश है यहाँ एहसास के जोहरी नहीं रहते।

नहीं मिला कोई तुम जैसा आज तक ये सितम अलग है के मिले तुम भी नहीं।

कैसे कह दूँ की मेरी दुआ बेअसर हो गयी मैने जब जब उसको याद किया उसे खबर हो गयी।

कल्पना हो तुम मेरी, एक नया एहसास हो मिले तो नहीं तुम अभी तक पर लगता है तुम पास हो।

दिल छोड़ कर कुछ और मांग लो साहब हमसे हम टूटी हुई चीज़ का तोहफा नहीं देते।

अजीब सी कश्मकश से गुज़र रहा हूँ जिसे पाया ही नहीं उसे खोने से डर रहा हूँ।

हर किसी को एक बार तो प्यार करना ही चाहिए ताकि उन्हें पता चल सके की प्यार क्यों नहीं करना चाहिए।

बात सिर्फ ज़र्फ़ की होती है वरना जो रो सकता है वो रुला भी सकता है।

जिंदगी वही है जो हम आज जी ले कल जो हम जियेंगे वो उम्मीद होगी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here